[PDF] Masala Udyog Project Report & Business Plan in Hindi 2021

दोस्तों अगर आप भी मसाला उद्योग शुरू करना चाहते है वो काम कीमत पर तो आप सही जगह पर है

आप भी मसाला उद्योग (masala udyog) करके महीने के पचास हजार  से लेकर एक लाख तक लाभ (Profit from fifty thousand to one lakh) कमा सकते है 

तो दोस्तों आप बने रहिये हमारे साथ आज के इस ब्लॉग में हम मसाला उद्योग (Spice industry) पर ही चर्चा करेंगे

और साथ ही हम आपको यह बताएँगे की आप यह (how to start masala udyog) बिज़नेस को कैसे आसानी से कर सकते है। 

मसाला उद्योग

Read it Also ;- Rakhi making business at Home & Materials

मसाला उद्योग (masala udyog project in hindi)

दोस्तों मसाला आज के समय में हर किसी के घर की सामान्य जरुरत हो गयी है चाहे वो घर हो या होटल या किसी गरीब की झोपड़ी। 

मसाला आज के समय में हर तरह के खाने वाली चीजों में पड़ने वाला एक ऐसा पदार्थ है

जिससे खाद्य सामग्री का स्वाद बढ़ जाता है। जिसकी वजह से मसाला की जरुरत समाज में इतनी जयादा है

की इसकी खपत को पूरा करने के लिए आये दिन नयी मसाला कंपनियों का निर्माण होता है 

Read it Also ;- Start a Food factory in India Brief details in Hindi (2020-2021)

यह कई चीजों से मिलकर बनता है

जैसे – जीरा , धनिया , हल्दी इत्यादि वस्तुओ को डालकर हम तैयार करते है या हम इन्हे अलग अलग भी तैयार कर बाजार में बेच सकते है 

मसाला उद्योग को शुरू करने के लिए आपको निम्नलिखित बिन्दुओ पर काम करना होगा जो की इस तरह से है

1. मसाला उद्योग को शुरू करने के लिए जगह (Place to start the spice industry)

हमारा सबसे पहला कदम इस बिज़नेस को करने के लिए सही जगह का सही चुनाव करना बहुत जरुरी होता है यह बिज़नेस को 

दोस्तों जैसा की हम पिछले सभी ब्लॉग में यह बताते चले आये है की जब भी हम बिज़नेस के लिए जगह ढूंढे तो हमे कुछ बातो का जरूर ध्यान रखें रखना चहिये जैसे ;-

Read it Also ;- Start a Food factory in India Brief details in Hindi (2020-2021)

  • सड़क युक्त होनी चाहिए 
  • बिजली की व्यवस्था होनी चाहिए 
  •  पानी की व्यवस्था होनी चाहिए 
  • शहर के पास में जगह का होना जरुरी होता है 
  • किसी भी आपातकाल के समय में आपात कालीन सेवाएं मिल सके 

2. मसाला उद्योग के लिए आवश्यक सामग्री (Ingredients needed for the spice industry)

हम आपको नीचे कुछ ऐसे समाग्री के बारे में चर्चा कर रहे है जो की आपको इस मसाला बिज़नेस के लिए बहुत ही जरुरी है 

  • काली मिर्च : काली मिर्च का उत्पादन अधिकांशतः केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु राज्य द्वारा किया जाता है
  • इलायची: इलायची दो प्रकार की होती है छोटी और बड़ी | जहाँ छोटी इलायची का उत्पादन उपर्युक्त राज्यों द्वारा किया जाता है | वही बड़ी इलायची का उत्पादन सिक्किम और पश्चिम बंगाल द्वारा किया जाता है |
  • अदरक : अदरक का उत्पादन विभिन्न राज्यों जैसे केरल, कर्नाटक, आन्ध्र प्रदेश, उड़ीसा, मेघालय, मध्य प्रदेश, मिजोरम, पश्चिम बंगाल, अरुणाचल प्रदेश, तमिलनाडु, हिमांचल प्रदेश, सिक्किम, उत्तराखंड, झारखण्ड, छतीसगढ़ (Kerala, Karnataka, Andhra Pradesh, Orissa, Meghalaya, Madhya Pradesh, Mizoram, West Bengal, Arunachal Pradesh, Tamil Nadu, Himachal Pradesh, Sikkim, Uttarakhand, Jharkhand, Chhattisgarh) द्वारा किया जाता है |
  • हल्दी : हल्दी भिन्न भिन्न राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, त्रिपुरा, असम, बिहार, मेघालय, केरल, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, आन्ध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और उड़ीसा में उत्पादित की जाती है |
  • मिर्च: मिर्च का उत्पादन अधिकांशतः मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, उड़ीसा, राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश व महाराष्ट्र राज्यों में किया जाता है |
  • धनिया : धनिये का उत्पादन मूल रूप से उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड व राजस्थान में किया जाता है |
  • जीरा जीरे का उत्पादन उत्तर प्रदेश, गुजरात व राजस्थान में किया जाता है |
  • सौंफ : सौंफ की पैदावार भी उपर्युक्त तीन राज्यों में ही होती है |
  • अजवायन : अजवायन की पैदावार मूल रूप से उत्तर प्रदेश व पंजाब में होती है |
  • लोंग : लोंग अधिकतर कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल में होता है |
  • मेथी : मेथी का उत्पादन उत्तर प्रदेश, गुजरात व राजस्थान में होता है |
  • जायफल और जावित्री: इसका उत्पादन केरल, तमिलनाडु और केरल में होता है |
  • दालचीनी : केरल और तमिलनाडु में उत्पादित की जाती है |
  • केसर : केसर का उत्पादन जम्मू एंड कश्मीर में होता है |
  • वैनिला : केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक राज्य द्वारा उत्पादित किया जाता है |
  • लहसुन : कर्नाटक, राजस्थान, छतीसगढ़, बिहार, गुजरात, उत्तर प्रदेश, उड़ीसा, महाराष्ट्र, हरियाणा और मध्य प्रदेश राज्यों द्वारा उत्पादन किया जाता है |
  • अजोवन : बिहार और जम्मू कश्मीर में पैदावार होती है |
  • सरसों : बिहार, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश में उत्पादित होती है |
  • सोया बीज : गुजरात और राजस्थान में पैदा की जाती है |
  • कोकम : एकमात्र राज्य कर्नाटक में पैदावार होती है |
  • तेजपत्ता : सिक्किम और अरुणांचल प्रदेश में पैदावार होती है |
  • अनार के बीज: महाराष्ट्र और तमिलनाडु राज्यों में पैदावार होती है |
  • हर्बल और विदेशी मसाले : तमिलनाडु | 

मसालों की पैकिंग के लिए आपको पॉलीथिन की छोटी थैलियों की आवश्यकता भी  पड़ती है

3. मसाला उद्योग को करने के लिए मशीन (Machine for spice industry)

मशीनों को खरीदने से पहले आपको यह ध्यान रखने की आवश्यकता है की मसालो में कई ऐसी सामग्री है 

Read it Also;- Marketing in Hindi,टिप्स, तरीका & Marketing management

मसाला उद्योग (masala chakki)में मसाला पीसने के अलावा भी कई काम होते यहाँ मसाला  उद्योग में लगाने वाली मशीनों (masala making machine list)की लिस्ट है 

  •  Spice cleaner– मसालों से कंकड़ पत्थर साफ करने के लिए
  •  ग्राइंडर- मसालों को पीसने के लिए
  •  Grader-  मसालों की पिसाई के बाद बारीक़ तथा मोटे मसालों को अलग करने के लिए
  •  तराजू – तैयार मसालों को मापने के लिए
  • पॅकेजिंज – मसालों को पैक करने के लिए 

4. मसाला उद्योग के लिए पैकेजिंग मटेरियल (Packaging materials for the spice industry)

दोस्तों मसाला बिज़नेस को करने के लिए एक और भी महत्वपूर्ण चीज है जो की है

पैक करने की मशीन जिसके जरिये आप अपने सभी पप्रकार के मसालों को एक पैकेट में बंद करेंगे 

इसके बाद आता है दोस्तों आपका पैकेजिंग बॉक्स यानि की पाउच जिसमे आप मसाले को पैक करेंगे। 

5. मसाला पाउडर बनाने के लिए ट्रेनिंग (Training to make masala powder)

दोस्तों आपको मसाला का पाउडर बनाने के लिए कुछ दिनों की ट्रेनिंग (Training) लेना जरुरी होता है जो की आप किसी भी मसाला फैक्ट्री से ले सकते है 

पाउडर बनाने के लिए आपको ट्रेनिंग लेना इसलिए भी जरुरी है की इससे आपको मसाला के सही गुणवत्ता की जानकारी हो सकती है 

इसके साथ ही आपको मसाला की पूरी जाकारी भी हो जाती है जो की सबसे ज्यादा जरुरी है इसमें आपको मसाला के सभी तत्वों के बारे में जानकारी हो जाती है 

Read It Also;- How to start a stationery shop business plan in India pdf in Hindi

उनकी किस मसाला में कितनी उपस्थिति होनी चाहिए ये भी जाकारी हो जाती है 

6. मसाला उद्योग की मार्केटिंग (Spice Industry Marketing)

मसाला उद्योग का प्रचार प्रसार करने के लिए आप प्रत्येक दूकान जाकर अपने प्रोडक्ट की जानकरी दे सकते है।

इसके साथ ही आप पम्पलेट और बैनर के जरिये भी जानकारी दे सकते है

पहले आप अपने शहर में ही इसका प्रचार प्रसार करे उसके बाद इसे आगे बढ़ाये 

बिज़नेस के लिए आप ऑनलाइन का भी सहारा ले सकते है।  इसमें आप सोसल मिडिया और गूगल एड का भी सहारा ले सकते है 

मार्केटिंग का सबसे किफायती तरीका ग्राहक की संतुष्टि का होना बहुत जरुरी होता है

अगर आपका ग्राहक संतुष्ट हो गया तो आपका गग्राहक स्वयं ही आपके प्रोडक्ट का प्रचार करेगा। 

इसके लिए सबसे बड़ा उदाहरण पतंजलि है जिसके प्रोडक्ट का प्रचार ग्राहक सबसे ज्यादा करते है 

masala udyog project in hindi

7. मसाला उद्योग की सर्विस  (Masala udyog service)

 आपको अपने मसाले की सर्विस यानी सभी दूकान तक अपने मसालो का वितरण करना जिसके लिए आपको किसी साधन और कामगार की आवश्यकता हो सकती है 

आप शुरू में अपने मसलो का वितरण खुद से ही कर सकते है और फिर बाद में आप इन मसालों का वितरण अपने कामगरों के द्वारा भी करवा सकते है 

इसके साथ ही आप कुछ ऐसे लोगो से भी सम्पर्क बना सकते है जो अन्य प्रोडक्ट की डिलीवरी के लिए कई दुकानों पर विजिट करते हो 

8. मसाला उद्योग से होने वाला फायदा (Masala udyog profit)

आप इस बिज़नेस से शरुआत में थोड़ी मेहनत के जरिये आप अच्छा मुनाफा कमा सकते है जैसे की आप इस बिज़नेस से 30 हजार से लेकर 40 हजार तक का मुनाफा कमा सकते है 

यह मुनाफा आपके सभी खर्चो को घटाकर एक अनुमानित है कृपया इसका सही आकलन करे 

9. मसाला उद्योग या बिज़नेस के लिए लोन (Loan for spice industry or business)

शुरुआत में यदि आपके पास स्वयं की पूजी है तो यह पके लिए बहुत ही बढ़िया होगा क्योकि आपको बाद में किसी भी तरह का दिक्कत का समाना नहीं करना होगा। 

किन्तु अगर आपके पास इतनी अधिक पूजी नहीं यही तो आप अपने मित्रो या सम्बन्धियों से भी अपने नए बिज़नेस के लिए फण्ड एकत्र कर सकते है। 

इसके बाद यदि आपके पास ऊपर के दोनों ऑप्शन से पैसे एकत्र होने में प्रॉब्लम होता है तो आप बैंक का सहारा ले सकते है। 

जिसमे आपको अपने नजदीकी किसी भी बैंक में जाकर समपर्क करना होगा जहा पर आपको अपने मसाला बिज़नेस की अगले पांच साल की प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर देनी होगी। 

प्रोजेक्ट रिपोर्ट के साथ ही आपको अन्य कई दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड और फोटो इत्यादि सम्मलित करना होगा। 

मसाला उद्योग पंजीकरण (Spices Industry Registration)

गर आप इस बिज़नेस को केवल अपने राज्य में ही करना चाहते है तो आपको निम्न लिखित प्रकार का पंजीकरण होना बहुत ही जरुरी है जोकि इस प्रकार है ;-

  1. Business Registration
  2. Trade Mark (Optional)
  3. GST Registration
  4. State FSSAI License Registration

दोस्तों हम आप सभी से आग्रह करंगे की आप हमारे laghu udyog registration process & profit in 2021 पोस्ट को जरूर देखे जहा पर हमने किसी भी नए बिज़नेस का पंजीकरण करने का सबसे आसान तरीका साझा किया है

मसाला उद्योग कैसे शुरू करें?

मसाला उद्योग कैसे शुरू करें (How to Start a Spice Business )
कच्चे माल का स्रोत पता करें 
जगह का प्रबंध करें (Arrange Space for Spice Business)
जरुरी लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन कराएँ
मशीनरी एवं उपकरण खरीदें
कच्चा माल मंगवाकर उत्पादन शुरू करें 
मार्केटिंग करें बेचें और कमायें

मसाले पीसने वाली मशीन कितने की आती है?

Not Available

गरम मसाला में क्या क्या होता है?

गरम मसाला बनाने की सामग्री:-
साबुत धनिया (Coriander Seed) – 4 चम्मच
लवंग/लौंग (Cloves) – 2 चम्मच
जीरा (Cumin Seed) – 3 चम्मच
दालचीनी (Cinnamon) – 1 इंच का टुकड़ा
काली मिर्च (Black Pepper) – 4 चम्मच
तेज पत्ता (Indian Bay Leaf) – 4-6.
जैफल / जायफल (Nutmeg) – 1.
लाल इलायची (Red Cardamom ) – 8-10.

मसाले में क्या क्या पड़ता है?

बनाने का तरीका
सफेद कोरमे का मसाला बनाने के लिए सबसे पहले अदरक, लहसुन और प्‍याज को सुखाकर पाउडर बना लें।
अगर आपके पास खरबूजे के बीज नहीं है तो आप कद्दू या तरबूज के बीज भी इस्‍तेमाल कर सकती हैं।
फिर आप मिक्सी के जार में खरबूजे के बीज, बादाम, काजू, हरी इलायची, लौंग, काली मिर्च और दखनी मिर्च डालकर अच्‍छे से पीस लें।

मसाला कितने प्रकार के होते हैं?

कुछ भरतीय मसालों का संक्षिप्त परिचय
हल्दी
धनिया पाउडर
काली मिर्च
जीरा
काला जीरा
अमचूर पाउडर (खटाई)
हींग
हड़

सावधानिया 

  • मसाले को सही मात्रा में तैयार करना 
  • उसकी गुणवत्ता पर ध्यान देना
  • सही मशीनों का चुनाव 
  • साफ़ सफाई का विशेष ध्यान 

निष्कर्ष 

दोस्तों हमने आपको ”[PDF] Masala Udyog Project Report Business plan in Hindi 2021“ पोस्ट में कई सवालो के जवाब देने का प्रयास किया है

फिर भी अगर आपके पास कोई अन्य सवाल इससे जुड़े हुए है तो आप उन्हें हमसे सीधे कमेंट के जरिये जरूर बताये

हम आपके सभी सवालो को अपने इस लेख में डालकर आप सभी की मदद करना पसंद करेंगे।

दोस्तों आपको हमारा यह लेख ”[PDF] Masala Udyog Project Report Business plan in Hindi 2021” आपको कैसा लगा आप हमे कमेंट करके जरूर बताये

इन्हे भी पढ़े 

7 thoughts on “[PDF] Masala Udyog Project Report & Business Plan in Hindi 2021”

Leave a Comment