Top 30 laghu udyog list and complete information

laghu udyog इक ऐसा उद्योग जिसका जन्म होने के बाद से ही भारत ही वरन दुनिया हर आम आदमी भी उधोग या बिज़नेस करने के लिए सोचना शुरू कर दिया है

लघु उद्योग ही वह दूसरा बड़ा तरीका है जिसके जरिये आम व्यक्ति बिज़नेस जगत में अपनी पहचान बना सकता है जिसके लिए उसे बहुत अधिक लगत की आवश्यकता नहीं होती है

जिसकी बदौलत कई नए बिज़नेस मैन अपने सपनो के सभी अरमानो को पूरा कर लिया है। और अभी भी कुछ इस लिस्ट में है

laghu udyog

लघु उद्योग क्या है What Is laghu udyog

किसी भी उद्योग को हम उसके आकर से मापते है और जिसके बाद हम यह तय करते है की वह उद्योग किस श्रेणी में आता है जिसके लिए हमे उसमे लगाने वाले श्रम और पूँजी का आकलन करना होता है

पूँजी और श्रम को मद्देनजर रखते हुए इसके तीन भाग किये गए है जो की इस प्रकार है

सूक्ष्म उद्योग-

सूक्ष्म उद्योग लघु उद्योग से छोटा और आसानी से शुरू किया जाने वाला उद्योग हो सकता है  इस तरह के उद्योग में आप यदि सर्विस सेक्टर का काम करते है

तो आपका निवेश लगभग १० लाख रुपये तक होगा और यदि आप निर्माण छेत्र में काम करते है तो आपको २५ लाख तक का निवेश करना पढ़ सकता है

ठीक इसी प्रकार इसमें श्रमिकों की संख्या २ से लेकर १० तक हो सकती है

लघु उद्योग (small scale industries)

लघु उद्योग, सूक्ष्म उद्योग से थोड़ा ज्यादा निवेश वाला बिज़नेस होता है इसमें यदि आप सर्विस सेक्टर में काम करते है

तो आपके पूरे बिज़नेस में 10 लाख से २ करोड़ से अधिक का निवेश नहीं कर सकते है यदि आप इससे अधिक का निवेश करते है तो यह आपका उद्योग लघु उद्योग से मध्यम उद्योग में आ जायेगा

और यदि निर्माण सेक्टर में काम करते है तो आप पूरे बिज़नेस में 10 लाख से २ करोड़ से अधिक का निवेश नहीं कर सकते है

मध्यम उद्योग ()

मध्यम उद्योग लघु उद्योग से बड़ा होता है यदि कोई छोटा बिज़नेस जिसकी कुल कीमत २ करोड़ से १० करोड़ तक हो जाती है तो वह मध्यम उद्योग में आ जाता है

इस तरह के उद्योग वर्ग में सर्विस सेक्टर के लिए २ करोड़ से लेकर ५ करोड़ तक का निवेश कर सकते है और यदि आप निर्माण कार्य में अपना योगदान दे रहे है तो आप लगभग २ करोड़ से लेकर ५ करोड़ तक का निवेश बड़ी आसानी से कर सकते है

इसके साथ ही यह सभी प्रकार के उद्योग का वर्ग उसके मशीनरी और श्रमिकों की संख्या पर भी निर्भर रहती है

ग्रामीण लघु उद्योग (Gramin laghu udyog)

10 हजार से कम जनसंख्या वाले ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित तथा भूमि, भवन, मशीनरी आदि में प्रति कारीगर या कार्यकर्ता 15 हजार रूपये से कम स्थिर पूंजी निवेश वाले उद्योग ग्रामोद्योग के अन्तर्गत आते है।

राज्य ग्रामोद्योग बोर्ड तथा ग्रामोद्योग उद्योग इन इकाइयों की स्थापना संचालन आदि में तकनीकी एवं आर्थिक सहायता प्रदान करते है

भारत सरकार इन सभी प्रकार के उद्योगों के लिए विभिन्न माध्यम  से आर्थिक सहायता भी उपलब्ध करा रहा है

क्युकी भारत सरकार को सूक्ष्म, लघु एंव मध्यम उद्योग देश की सम्पूर्ण औद्योगिक अर्थव्यस्था में यह क्षेत्र निमार्ण की दृष्टि से 39% एवं भारत के कुल निर्यात के 33% के लिए जिम्मेदार है।

और इसके साथ ही सूक्ष्म, लघु एंव मध्यम उद्योग देश में रोजगार उपलब्ध करने में भी बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान निभाते है यह क्षेत्र 12.84 मिलियन माइक्रो और लघु उपक्रमों के जरिये अनुमानत 31.2 मिलियन व्यक्तियों को रोजगार देता है।

लघु उद्योग कैसे शुरू करें (How to start Laghu Udyog)

लघु उद्योग को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको अपने बिज़नेस का चयन करना होगा इसके बाद आपको अपने बिज़नेस की रूपरेखा तैयार करनी होगा

उसका पंजीकरण और उसका शोधन करना होगा आपको यह कन्फर्म होना चाहिए की आप अपने बिज़नेस के द्वारा किस प्रकार से लोगो को लाभ देना चाहते है जैसे की क्या आप सर्विस करना चाहते है या आप निर्माण छेत्र में काम करना चाहते है

इस प्रकार अपने पूरे बिज़नेस का plan यानि रूपरेखा तैयार करनी होगी, जो की किसी भी बिज़नेस के शुरुआत का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है बिज़नेस प्लान ही आपको आपके पूरे बिज़नेस की प्रत्येक समस्या का समाधान करके आपको देता है

यदि आप भी जानना चाहते है की आप अपने बिज़नेस के लिए बिज़नेस प्लान कैसे करे तो आप हमारे इस ब्लॉग को पढ़ सकते है

लघु उद्योग की लिस्ट (Laghu Udyog List in Hindi)

वैसे तो आप ऊपर बताये हुए बातो को मद्देनजर रखते हुए किसी भी प्रकार के बिज़नेस का निर्माण कर सकते है किन्तु हम आपको आपकी सुविधा के लिए कुछ ऐसे बिज़नेस के बारे में बताएँगे जो की लघु उद्योग की श्रेणी में ही आते है

  1. हर्बल सामान जैसे साबुन, तेल आदि बनाना
  2. हाथ से बने चॉकलेट बनाना
  3. कुकी व बिस्कुट बनाना (Parle कंपनी की शुरुआत भी ऐसे ही हुई थी)
  4. देशी माखन, घी व पनीर बनाना और डिब्बा बंद कर बेचना
  5. मोमबत्ती व अगरबत्ती बनाना
  6. टॉफ़ी व चीनी की मिठाई बनाना
  7. सोडा व अलग फ्लेवर्ड ड्रिंक बनाना
  8. फलों का गूदा निकालना व बेचना (Fruit pulp extraction & sale)
  9. क्लाउड किचन खोलना (Cloud kitchen – Swiggy/Zomato पर खाना बेचना)
  10. घर में इस्तेमाल किया जाने वाला कूलर बनाना
  11. फैंसी जेवेलरी बनाना
  12. डिस्पोजेबल कप-प्लेट बनाना
  13. एल्युमीनियम का सामान जैसे बर्तन बनाना
  14. हॉस्पिटल में उपयोग किए जाने वाला स्ट्रेचर बनान
  15. करंट मापने वाला पर मीटर या वोल्ट मीटर बनाना
  16. गाड़ी में लगने वाली हेडलाइट बनाना
  17. कपड़े या चमडे का बैग बनाना
  18. बटुआ व हैंडबैग बनाना
  19. मसाले बनाने का काम
  20. कांटेदार तार बनाना (fence)
  21. टोकरी बनाना
  22. चमड़े का बेल्ट जूता या चप्पल बनाना
  23. जूते साफ करने की पॉलिश बनाना
  24. कपड़े रखने का बक्सा या अटैची बनान
  25. प्लेट व कटोरी बनाना
  26. झाड़ू बनाना
  27. पारम्परिक औषधियां बनाना
  28. पेपर बैग व लिफाफे बनाना

लघु उद्योग का पंजीकरण

दोस्तों लघु उद्योग का परजीकरण करना बहुत ही आसान है इसके लिए आपके पास आपका आधार कार्ड है तो भी आपके बिज़नेस का पंजीकरण आसानी से होगा

आप अपने आधार कार्ड के जरिये ऑनलाइन घर बैठे केवल ५ मिनट में ही अपने बिज़नेस का पंजीकरण कर सकते है जो की आपको आपके बिज़नेस के लिए लोन दिलाने में भी मदद करेगा

इसके लिए आपको सबसे पहले उद्योग आधार की वेबसाइट पर विजिट करना होगा आपके बिज़नेस का सर्टिफिकेट तुरंत ऑनलाइन मिल जायेगा

इसके साथ ही आप अपने बिज़नेस का पंजीकरण जिला उद्योग केंद्र में भी कर सकते है

लघु उद्योग लोन और स्कीम

आप लघु उद्योग लोन के लिए बैंक में अप्लाई कर सकते है या आप भारत सरकार के द्वारा शुरू किये गए ५९ मिनट लोन के वेबसाइट पर जाकर भी आवेदन कर सकते है

बैंक में अप्लाई करने के लिए आपको उस बैंक में खाता की जरूरत होगीइसके साथ आपको बैंक में अपने कुछ कागजात जमा करना होता ही

जैसे की आधार कार्ड , पैन कार्ड , जाती प्रमाण पत्र, इसके बाद आपको अपने बिज़नेस की एक बैलेंस शीट जो की किसी भी CA के द्वारा बनवा सकते है जिसमे आपके 3 वर्ष या 5 वर्ष के सभी प्रॉफिट और लॉस का अनुमान दिया रहता ह

आप चाहे तो बैंक में भारत सरकार की इन स्कीमों के तहत भी लोन ले सकते है सरकार द्वारा बहुत सी योजनाएं चलायी गयी हैं। इनमे से कुछ योजनाएँ इस प्रकार से हैं:

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY)
प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP)
प्रधानमंत्री रोजगार योजना
सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए क्रेडिट गारंटी फंड योजना (Credit Guarantee Fund Trust for Micro and Small Enterprises – CGTMSE)
क्रेडिट लिंक कैपिटल सब्सिडी स्कीम (Credit Link Capital Subsidy Scheme for Technology Upgradation)

laghu udyog mashin

Top 10 Business ideas

  1. Business plan Hindi me, Cover all Topic in Hindi language
  2. Mineral water plant project report, Cost, Margin in Hindi
  3. Rakhi making business at Home & Materials
  4. Marketing in Hindi,टिप्स, तरीका & Marketing management
  5. How to start a stationery shop business plan in India pdf in Hindi
  6. How to start a coaching centre Business For competitive exams in Hindi
  7. वाटर टैंक क्लीनिंग बिज़नेस शुरू कर ,कमाए 50000 रुपये महीना,पूरी जानकारी
  8. ओला कैब पार्टनर बनकर जानिए, लाखो रुपये हर महीने कैसे कमाते है ओला पार्टनर
  9. यह Top 10 बिज़नेस दुनिया का सबसे अच्छा बिज़नेस है
  10. सिविल ठेकेदार कैसे बनते है,सिविल ठेकेदार से जुडी सभी फायदे और नुक़सान

1 thought on “Top 30 laghu udyog list and complete information”

  1. Thank you for sharing this information. Love your blog post. Please Keep updating. You can also visit our blog for

    Reply

Leave a Comment