[PDF] Laghu Udyog kya hai, list for 2021, Ideas, and

laghu udyog इक ऐसा उद्योग जिसका जन्म होने के बाद से ही भारत ही वरन दुनिया हर आम आदमी भी उधोग या बिज़नेस करने के लिए सोचना शुरू कर दिया है

Laghu udyog ही वह दूसरा बड़ा तरीका है जिसके जरिये आम व्यक्ति Business जगत में अपनी पहचान बना सकता है जिसके लिए उसे बहुत अधिक लगत की आवश्यकता नहीं होती है

जिसकी बदौलत कई नए Business man अपने सपनो के सभी अरमानो को पूरा कर लिया है। और अभी भी कुछ इस लिस्ट में है

Table of Contents

लघु उद्योग क्या है What Is laghu udyog

किसी भी उद्योग को हम उसके आकर से मापते है और जिसके बाद हम यह तय करते है की वह उद्योग किस श्रेणी में आता है जिसके लिए हमे उसमे लगाने वाले श्रम और पूँजी का आकलन करना होता है

लघु उद्योग के प्रकार

पूँजी और श्रम को मद्देनजर रखते हुए इसके तीन भाग किये गए है जो की इस प्रकार है

1. सूक्ष्म उद्योग (Micro enterprises)

सूक्ष्म उद्योग लघु उद्योग से छोटा और आसानी से शुरू किया जाने वाला उद्योग हो सकता है  इस तरह के उद्योग में आप यदि सर्विस सेक्टर का काम करते है

तो आपका निवेश लगभग 10 lakhs रुपये तक होगा और यदि आप निर्माण छेत्र में काम करते है तो आपको 25 लाख तक का निवेश करना पढ़ सकता है

ठीक इसी प्रकार इसमें श्रमिकों की संख्या 2 से लेकर 10 तक हो सकती है

2. लघु उद्योग (Small scale industries)

लघु उद्योग, सूक्ष्म उद्योग से थोड़ा ज्यादा निवेश वाला बिज़नेस होता है इसमें यदि आप सर्विस सेक्टर में काम करते है

तो आपके पूरे बिज़नेस में 10 लाख से 2 करोड़ से अधिक का निवेश नहीं कर सकते है यदि आप इससे अधिक का निवेश करते है तो यह आपका उद्योग लघु उद्योग से मध्यम उद्योग में आ जायेगा

और यदि निर्माण सेक्टर में काम करते है तो आप पूरे बिज़नेस में 10 लाख से 2 करोड़ से अधिक का निवेश नहीं कर सकते है

3. मध्यम उद्योग (Medium Scale Udyog)

मध्यम उद्योग (medium Udyog )लघु उद्योग से बड़ा होता है यदि कोई छोटा बिज़नेस जिसकी कुल कीमत 2 करोड़ से 10 करोड़ तक हो जाती है तो वह मध्यम उद्योग में आ जाता है

इस तरह के उद्योग वर्ग में सर्विस सेक्टर के लिए 2 करोड़ से लेकर 5 करोड़ तक का निवेश कर सकते है और यदि आप निर्माण कार्य में अपना योगदान दे रहे है तो आप लगभग 2 करोड़ से लेकर 5 करोड़ तक का निवेश बड़ी आसानी से कर सकते है

इसके साथ ही यह सभी प्रकार के उद्योग का वर्ग उसके मशीनरी और श्रमिकों की संख्या पर भी निर्भर रहती है

4. ग्रामीण लघु उद्योग (Gramin laghu udyog)

10 हजार से कम जनसंख्या वाले ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित तथा भूमि, भवन, मशीनरी आदि में प्रति कारीगर या कार्यकर्ता 15 हजार रूपये से कम स्थिर पूंजी निवेश वाले उद्योग ग्रामोद्योग के अन्तर्गत आते है।

राज्य ग्रामोद्योग बोर्ड तथा ग्रामोद्योग उद्योग इन इकाइयों की स्थापना संचालन आदि में तकनीकी एवं आर्थिक सहायता प्रदान करते है

भारत सरकार इन सभी प्रकार के उद्योगों के लिए विभिन्न माध्यम  से आर्थिक सहायता भी उपलब्ध करा रहा है

क्युकी भारत सरकार को सूक्ष्म, लघु एंव मध्यम उद्योग देश की सम्पूर्ण औद्योगिक अर्थव्यस्था में यह क्षेत्र निमार्ण की दृष्टि से 39% एवं भारत के कुल निर्यात के 33% के लिए जिम्मेदार है।

और इसके साथ ही सूक्ष्म, लघु एंव मध्यम उद्योग देश में रोजगार उपलब्ध करने में भी बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान निभाते है यह क्षेत्र 12.84 मिलियन माइक्रो और लघु उपक्रमों के जरिये अनुमानत 31.2 मिलियन व्यक्तियों को रोजगार देता है।

लघु उद्योग कैसे शुरू करें (How to start Laghu Udyog)

लघु उद्योग को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको अपने बिज़नेस का चयन करना होगा इसके बाद आपको अपने बिज़नेस की रूपरेखा तैयार करनी होगा

उसका पंजीकरण और उसका शोधन करना होगा आपको यह कन्फर्म होना चाहिए की आप अपने बिज़नेस के द्वारा किस प्रकार से लोगो को लाभ देना चाहते है जैसे की क्या आप सर्विस करना चाहते है या आप निर्माण छेत्र में काम करना चाहते है

इस प्रकार अपने पूरे बिज़नेस का plan यानि रूपरेखा तैयार करनी होगी, जो की किसी भी बिज़नेस के शुरुआत का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है बिज़नेस प्लान ही आपको आपके पूरे बिज़नेस की प्रत्येक समस्या का समाधान करके आपको देता है

यदि आप भी जानना चाहते है की आप अपने बिज़नेस के लिए बिज़नेस प्लान कैसे करे तो आप हमारे इस ब्लॉग को पढ़ सकते है

लघु उद्योग की लिस्ट (Laghu Udyog List in Hindi)

वैसे तो आप ऊपर बताये हुए बातो को मद्देनजर रखते हुए किसी भी प्रकार के बिज़नेस का निर्माण कर सकते है किन्तु हम आपको आपकी सुविधा के लिए कुछ ऐसे बिज़नेस के बारे में बताएँगे जो की लघु उद्योग की श्रेणी में ही आते है

Laghu Udyog List

  1. हर्बल सामान जैसे साबुन, तेल आदि बनाना
  2. हाथ से बने चॉकलेट बनाना
  3. कुकी व बिस्कुट बनाना (Parle कंपनी की शुरुआत भी ऐसे ही हुई थी)
  4. देशी माखन, घी व पनीर बनाना और डिब्बा बंद कर बेचना
  5. मोमबत्ती व अगरबत्ती बनाना
  6. टॉफ़ी व चीनी की मिठाई बनाना
  7. सोडा व अलग फ्लेवर्ड ड्रिंक बनाना
  8. फलों का गूदा निकालना व बेचना (Fruit pulp extraction & sale)
  9. क्लाउड किचन खोलना (Cloud kitchen – Swiggy/Zomato पर खाना बेचना)
  10. घर में इस्तेमाल किया जाने वाला कूलर बनाना
  11. फैंसी जेवेलरी बनाना
  12. डिस्पोजेबल कप-प्लेट बनाना
  13. एल्युमीनियम का सामान जैसे बर्तन बनाना
  14. हॉस्पिटल में उपयोग किए जाने वाला स्ट्रेचर बनान
  15. करंट मापने वाला पर मीटर या वोल्ट मीटर बनाना
  16. गाड़ी में लगने वाली हेडलाइट बनाना
  17. कपड़े या चमडे का बैग बनाना
  18. बटुआ व हैंडबैग बनाना
  19. मसाले बनाने का काम
  20. कांटेदार तार बनाना (fence)
  21. टोकरी बनाना
  22. चमड़े का बेल्ट जूता या चप्पल बनाना
  23. जूते साफ करने की पॉलिश बनाना
  24. कपड़े रखने का बक्सा या अटैची बनान
  25. प्लेट व कटोरी बनाना
  26. झाड़ू बनाना
  27. पारम्परिक औषधियां बनाना
  28. पेपर बैग व लिफाफे बनाना

Download your लघु उद्योगों की सूची pdf

लघु उद्योग का पंजीकरण (Business Registration )

दोस्तों लघु उद्योग का परजीकरण करना बहुत ही आसान है इसके लिए आपके पास आपका आधार कार्ड है तो भी आपके बिज़नेस का पंजीकरण (Business Registration ) आसानी से होगा

आप अपने आधार कार्ड के जरिये ऑनलाइन (Online) घर बैठे केवल 5 मिनट में ही अपने बिज़नेस का पंजीकरण कर सकते है जो की आपको आपके बिज़नेस के लिए लोन दिलाने में भी मदद करेगा

इसके लिए आपको सबसे पहले उद्योग आधार (Udyog Adhaar )की Website पर विजिट करना होगा आपके बिज़नेस का सर्टिफिकेट तुरंत ऑनलाइन मिल जायेगा

इसके साथ ही आप अपने बिज़नेस का पंजीकरण जिला उद्योग केंद्र (DSC) में भी कर सकते है

Laghu Udyog Registration Online

एक सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम पंजीकृत करें

कोई भी व्यक्ति जो एक सूक्ष्म, लघु या मध्यम उद्यम स्थापित करना चाहता है, वह स्व-घोषणा के आधार पर दस्तावेज़, कागजात, प्रमाण पत्र या प्रमाण अपलोड करने की आवश्यकता के बिना, उद्यम पंजीकरण पोर्टल में ऑनलाइन उद्यम पंजीकरण दर्ज कर सकता है।

पंजीकरण पर, एक उद्यम (उद्यम पंजीकरण पोर्टल में “उद्यम” के रूप में संदर्भित) को एक स्थायी पहचान संख्या सौंपी जाएगी जिसे “उद्यम पंजीकरण संख्या” के रूप में जाना जाएगा।

पंजीकरण प्रक्रिया पूरी होने पर एक ई-प्रमाण पत्र, अर्थात् “उद्यम पंजीकरण प्रमाणपत्र” जारी किया जाएगा।

अपने सपनों का उद्यम बनाने के लिए बस कुछ आसान कदम उठाएं

  • पंजीकरण के लिए फॉर्म उद्यम पंजीकरण पोर्टल में दिए गए अनुसार होगा।
  • उद्यम पंजीकरण दाखिल करने के लिए कोई शुल्क नहीं होगा।
  • उद्यम पंजीकरण के लिए आधार संख्या की आवश्यकता होगी।
  • प्रोपराइटरशिप फर्म के मामले में आधार नंबर प्रोपराइटर का होगा, पार्टनरशिप फर्म के मामले में मैनेजिंग पार्टनर का और हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) के मामले में कर्ता का होगा।
  • कंपनी या सीमित देयता भागीदारी या सहकारी समिति या सोसाइटी या ट्रस्ट के मामले में, संगठन या उसके अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता अपने आधार संख्या के साथ अपना जीएसटीआईएन और पैन प्रदान करेंगे।
  • यदि कोई उद्यम विधिवत पैन के साथ एक उद्यम के रूप में पंजीकृत है, तो पिछले वर्षों की जानकारी में कोई कमी, जब उसके पास पैन नहीं था, स्व-घोषणा के आधार पर भरा जाएगा।
  • कोई भी उद्यम एक से अधिक उद्यम पंजीकरण दाखिल नहीं करेगा: बशर्ते कि विनिर्माण या सेवा या दोनों सहित कई गतिविधियों को एक उद्यम पंजीकरण में निर्दिष्ट या जोड़ा जा सकता है।
  • जो कोई जानबूझकर गलत तरीके से प्रस्तुत करता है या उद्यम पंजीकरण या अपडेशन प्रक्रिया में प्रदर्शित होने वाले स्व-घोषित तथ्यों और आंकड़ों को दबाने का प्रयास करता है, वह अधिनियम की धारा 27 के तहत निर्दिष्ट दंड के लिए उत्तरदायी होगा।

लघु उद्योग लोन और स्कीम

आप laghu udyog loan के लिए bank में apply कर सकते है या आप भारत सरकार के द्वारा शुरू किये गए 59 मिनट लोन के Website पर जाकर भी आवेदन कर सकते है

बैंक में अप्लाई करने के लिए आपको उस बैंक में खाता की जरूरत होगी इसके साथ आपको बैंक में अपने कुछ कागजात जमा करना होता ही

जैसे की आधार कार्ड , पैन कार्ड , जाती प्रमाण पत्र, इसके बाद आपको अपने Business की एक Balance sheet जो की किसी भी CA के द्वारा बनवा सकते है जिसमे आपके 3 वर्ष या 5 वर्ष के सभी Profit & Loss का अनुमान दिया रहता ह

आप चाहे तो Bank में भारत सरकार की इन स्कीमों के तहत भी लोन ले सकते है सरकार द्वारा बहुत सी योजनाएं चलायी गयी हैं। इनमे से कुछ योजनाएँ इस प्रकार से हैं:

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY)
PMEGP (प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम )
प्रधानमंत्री रोजगार योजना
सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए क्रेडिट गारंटी फंड योजना (Credit Guarantee Fund Trust for Micro and Small Enterprises – CGTMSE)
क्रेडिट लिंक कैपिटल सब्सिडी स्कीम (Credit Link Capital Subsidy Scheme for Technology Upgradation)

भारत में लघु उद्योग क्या हैं? (What are the small scale industries in India?)

यहाँ भारत में शीर्ष लघु उद्योगों की सूची दी गई है:

  • चॉकलेट Making Business
  • पेपर नैपकिन और टॉयलेट रोल
  • सैनिटरी नैपकिन
  • मोमबत्ती बनानाफिनाइल बनाना
  • डिस्पोजेबल कप और प्लेट्स
  • एक्साइज नोटबुक
  • मसाले

laghu udyog की विशेषताएं क्या हैं? (What are the characteristics of small scale industries?)

कुछ उद्योगों की विशेषताएं निम्नलिखित हैं जो उन्हें लघु उद्योगों के रूप में पहचानते हैं:

  • श्रम गहन: छोटे स्तर के उद्योग काफी श्रम प्रधान हैं
  • लचीलापन
  • एक आदमी का शो
  • स्वदेशी कच्चे माल का उपयोग
  • स्थानीयकृत ऑपरेशन
  • कम गर्भावधि अवधि
  • शिक्षा का स्तर
  • लाभ मकसद

लघु और बड़े पैमाने पर उद्योग क्या है? (What is small and large scale industry?)

लघु उद्योगों के पास कम पूंजी और निवेश होता है जबकि बड़े पैमाने पर उद्योगों के पास विशाल पूंजी और निवेश होता है।

छोटे पैमाने के उद्योग कम मजदूरों को लगाते हैं और ज्यादातर काम मैनपावर द्वारा किया जाता है जबकि बड़े पैमाने पर उद्योगों में ज्यादातर काम मशीनों द्वारा किया जाता है

laghu udyog के उदाहरण क्या हैं? (What are the examples of small scale industries?)

लघु उद्योग के उदाहरण और विचार

  • बेकरी
  • स्कूल स्टेशन
  • पानी की बोतल
  • चमड़े की बेल्ट
  • छोटे खिलौने
  • काग़ज़ के बैग्स
  • फोटोग्राफ
  • ब्यूटी पार्लर

लघु उद्योगों के क्या लाभ हैं? (What are the advantages of small scale industries?)

निम्नलिखित लघु उद्योग के गुण हैं:

  • बड़े रोजगार के लिए संभावित
  • कम पूंजी की आवश्यकता
  • औद्योगिक उत्पादन में योगदान
  • निर्यात में योगदान
  • विदेशी मुद्रा अर्जित करना
  • सामान वितरण
  • घरेलू संसाधनों का उपयोग
  • उद्यमिता के अवसर

लघु उद्योगों की भूमिका क्या है? (What are the role of small scale industries?)

भारत जैसे देश में, लघु उद्योग रोजगार पैदा करने, लोगों की वित्तीय स्थिति में सुधार, ग्रामीण क्षेत्रों के विकास और क्षेत्रीय असंतुलन को दूर करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

कम पूंजी की आवश्यकता: लघु उद्योग बड़े पैमाने के उद्योगों की तुलना में कम पूंजी गहन होते हैं।

लघु उद्योगों का दायरा क्या है? (What is the scope of small scale industries?)

लघु क्षेत्र उद्योग का दायरा

छोटे पैमाने के उद्योगों का दायरा काफी हद तक गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर करता है। इनकी विशेषता श्रम की गहनता, कम पूंजी की आवश्यकता और कम परिष्कृत प्रौद्योगिकी की आवश्यकता है। ढांचागत गतिविधियाँ जैसे परिवहन, संचार आदि।

बड़े पैमाने पर उद्योग से क्या मतलब है? (What is mean by large scale industry?)

बड़े पैमाने पर उद्योगों को उन उद्योगों के रूप में संदर्भित किया जाता है जिनके पास विशाल बुनियादी ढांचा, कच्चा माल, उच्च मानव शक्ति की आवश्यकताएं और बड़ी पूंजी आवश्यकताएं होती हैं। 10 करोड़ रुपये से अधिक की अचल संपत्ति रखने वाले संगठनों को बड़े पैमाने पर उद्योग माना जाता है।

बड़े पैमाने और छोटे पैमाने के बीच अंतर क्या है? (What is difference between large scale and small scale?)

बड़े पैमाने पर नक्शे विस्तार की एक बड़ी मात्रा के साथ क्षेत्र की एक छोटी राशि दिखाते हैं।

बड़े पैमाने पर नक्शे आमतौर पर पड़ोस, एक स्थानीय क्षेत्र, छोटे शहरों आदि को दिखाने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

छोटे पैमाने के नक्शे उन पर कुछ विवरणों के साथ एक बड़ा भौगोलिक क्षेत्र दिखाते हैं।

शुरू करने के लिए सबसे अच्छे लघु उद्योग क्या हैं? (What are best small scale industries to start?)

20 लाभदायक लघु उद्योग विचार

  • डिजाइनर कपड़ा निर्माण
  • वेल्डिंग इकाई
  • लकड़ी का काम
  • पैकेज पेयजल
  • प्लास्टिक उत्पाद विनिर्माण
  • आभूषण उत्पादन और बिक्री
  • भोजनालय
  • स्नैक्स मेकिंग

laghu udyog के फायदे और नुकसान क्या हैं? (What are the advantages and disadvantages of small scale industries?)

छोटे पैमाने पर उत्पादन के फायदे और नुकसान

  • नज़दीकी पर्यवेक्षण: छोटा उत्पादक स्वयं व्यवसाय के न्यूनतम विवरणों का पर्यवेक्षण कर सकता है
  • मांग की प्रकृति
  • अधिक रोजगार
  • छोटी पूंजी की आवश्यकता
  • श्रमिकों और नियोक्ताओं के बीच सीधा संबंध
  • ग्राहकों और उत्पादकों के बीच सीधा संबंध
  • आसान प्रबंधन
  • कार्य की स्वतंत्रता

laghu udyog की समस्याएं क्या हैं? (What are the problems of small scale industries?)

लघु उद्योग द्वारा निम्नलिखित समस्याएं हैं:-

  • खराब क्षमता का उपयोग
  • अक्षम प्रबंधन
  • अपर्याप्त वित्त
  • कच्चे माल की कमी
  • विपणन सहायता का अभाव
  • कार्यशील पूंजी की समस्या
  • निर्यात में समस्याएं
  • प्रौद्योगिकी उन्नयन में कमी

लघु उद्योगों की निवेश सीमा क्या है? (What is the investment limit of small scale industries?)

लघु उद्योग के तहत वर्गीकृत होने के लिए 1 करोड़। संयंत्र और रुपये की मशीनरी में निवेश की सीमा। एसएसआई के रूप में वर्गीकरण के लिए 1 करोड़ रुपये तक बढ़ाया गया है। भारत सरकार द्वारा होजरी, हाथ उपकरण, ड्रग्स और फार्मास्यूटिकल्स, स्टेशनरी आइटम और खेल के सामान के तहत कुछ निर्दिष्ट वस्तुओं के संबंध में 5 करोड़

सबसे सफल छोटे व्यवसाय क्या हैं? (What are the most successful small businesses?)

तुलना के लिए, 2020 में स्टैंडर्ड एंड पूअर्स (एस एंड पी) 500 पर कंपनियों का औसत लाभ मार्जिन 11% था।

  • लेखांकन, कर की तैयारी, बहीखाता पद्धति और वित्तीय योजना
  • रियल एस्टेट पट्टे पर देना
  • कानूनी सेवा
  • आउट पेशेंट क्लीनिक
  • संपत्ति प्रबंधक और मूल्यांकनकर्ता
  • चिकित्सकीय अभ्यास
  • रियल एस्टेट एजेंटों और दलालों के कार्यालय

शुरुआती लोगों के लिए सबसे अच्छा व्यवसाय क्या है? (What is the best business for beginners?)

बेकरी व्यवसाय शुरू करना आज उपलब्ध सबसे सफल घर आधारित व्यवसायों में से एक है। यदि आप बेकिंग का आनंद लेते हैं और न केवल लुभावने भोजन बनाने के लिए कौशल प्राप्त करते हैं

बल्कि नेत्रहीन अपील भी करते हैं, तो यह सबसे अच्छा स्टार्टअप विचारों में से एक हो सकता है। आप अपने दुकानों में अपने उत्पादों को बेचने के लिए खुदरा दुकानों के साथ गठजोड़ भी कर सकते हैं।

सबसे ज्यादा मांग किस सेवा की है? (What services are most in demand?)

अधिकांश इन-डिमांड बिजनेस सर्विसेज की मांग हैं?

  • लेखांकन और कर सलाह
  • परामर्श
  • कानूनी
  • विपणन
  • वेब और ऐप डिज़ाइन
  • भर्ती कर रहा है
  • लेखन और अनुवाद

2021 में मैं 50 हजार से कौन सा व्यवसाय शुरू कर सकता हूं? (What business can I start with 50k in 2021?)

8 व्यवसाय आप India में 50,000 नायरा के साथ शुरू कर सकते हैं

  1. बेकिंग बिजनेस
  2. फास्ट फूड बिजनेस
  3. प्लांटैन चिप्स व्यवसाय
  4. पेय और पानी बेचना
  5. छोटे पैमाने पर खेती
  6. स्मोक्ड मछली का व्यवसाय
  7. साबुन उत्पादन
  8. घर और सौंदर्य उत्पाद

शीर्ष 10 व्यवसाय शुरू करने के लिए क्या हैं? (What are the top 10 businesses to start?)

शीर्ष 10 व्यावसायिक विचार आप मुफ्त में एक उंगली उठाने के साथ शुरू कर सकते हैं

  • एक चैटबोट एजेंसी शुरू करें
  • अनुवादक बनें
  • डेटा प्रविष्टि विशेषज्ञ
  • ऐप परीक्षक
  • उत्पाद समीक्षा लिखें
  • अपना खुद का ब्लॉग शुरू करें
  • ऑनलाइन पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं
  • एक लोकप्रिय सोशल मीडिया चैनल बनाएं

मैं 20k से क्या व्यवसाय शुरू कर सकता हूं? (What business can I start with 20k?)

India में 20k के साथ शुरू करने के लिए सबसे अच्छा व्यवसाय (पॉवर 5)

  • फ्रीलांस राइटिंग बिजनेस
  • Blogging
  • लघु खाद्य कार्ट व्यवसाय
  • लाजदा विक्रेता
  • सफाई व्यवसाय

FAQ

एमएसएमई में कौन कौन से बिजनेस आते हैं?

1. मैनुफैक्चरिंग उद्योग में नई चीजों को बनाने यानी निर्माण करने का कार्य किया जाता है।
2. सर्विस सेक्टर में मुख्य रुप से सेवा प्रदान करने का कार्य किया जाता है। इसे सेवा क्षेत्र के रुप में भी जाना जाता है।

छोटे उद्योग कैसे शुरू करें?

व्यापार या उद्योग का चयन (Best Business Ideas).
व्यापार के विषय में शोध करें (Research and Analyse Business Market).
कानूनी रूप से वैद्य बनाएं (Make it Legally Valid).
व्यापार के लिए योजना बनाएं (Make plan for successful business).

मैं 5000 के साथ व्यवसाय कैसे शुरू कर सकता हूं?

आप 6 व्यवसाय 5,000 Rs. के तहत शुरू कर सकते हैं
ट्यूशन या ऑनलाइन पाठ्यक्रम
उत्पाद बनाओ और इसे ऑनलाइन बेचो
परामर्श व्यवसाय खोलें
ऐप या गेम बनाएं
रियल एस्टेट Agent बनें

गृह उद्योग में क्या क्या आता है?

लघु उद्योग की लिस्ट (Laghu Udyog List in Hindi)
हर्बल सामान जैसे साबुन, तेल आदि बनाना
हाथ से बने चॉकलेट बनाना
कुकी व बिस्कुट बनाना (Parle कंपनी की शुरुआत भी ऐसे ही हुई थी)
देशी माखन, घी व पनीर बनाना और डिब्बा बंद कर बेचना
मोमबत्ती व अगरबत्ती बनाना
टॉफ़ी व चीनी की मिठाई बनाना
सोडा व अलग फ्लेवर्ड ड्रिंक बनाना

छोटे व्यवसाय के नुकसान क्या हैं?

लघु व्यवसाय स्वामित्व का नुकसान
तनाव
वित्तीय जोखिम
समय प्रतिबद्धता
अवांछनीय कर्तव्य

भारत में कितने लघु उद्योग हैं

आधिकारिक अनुमानों के अनुसार, देश में लगभग 63.05 मिलियन सूक्ष्म उद्योग, 0.33 मिलियन छोटे और लगभग 5,000 मध्यम उद्यम हैं। देश के कुल MSME में 14.20 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ उत्तर प्रदेश राज्य में अनुमानित MSME की सबसे बड़ी संख्या है।

गुजारिश

दोस्तों हमने आपको ”laghu Udyog kya hai, list for 2021, Ideas, and Full information“  पोस्ट में कई सवालो के जवाब देने का प्रयास किया है

फिर भी अगर आपके पास कोई अन्य सवाल इससे जुड़े हुए है तो आप उन्हें हमसे सीधे कमेंट के जरिये जरूर बताये

हम आपके सभी सवालो को अपने इस लेख में डालकर आप सभी की मदद करना पसंद करेंगे।

दोस्तों आपको हमारा यह लेख ”laghu Udyog kya hai, list for 2021, Ideas, and Full information” आपको कैसा लगा आप हमे कमेंट करके जरूर बताये

Top 10 Business ideas & laghu udyog

  1. Business plan Hindi me, Cover all Topic in Hindi language
  2. Mineral water plant project report, Cost, Margin in Hindi
  3. Rakhi making business at Home & Materials
  4. Marketing in Hindi,टिप्स, तरीका & Marketing management
  5. How to start a stationery shop business plan in India pdf in Hindi
  6. How to start a coaching centre Business For competitive exams in Hindi
  7. वाटर टैंक क्लीनिंग बिज़नेस शुरू कर ,कमाए 50000 रुपये महीना,पूरी जानकारी
  8. ओला कैब पार्टनर बनकर जानिए, लाखो रुपये हर महीने कैसे कमाते है ओला पार्टनर
  9. यह Top 10 बिज़नेस दुनिया का सबसे अच्छा बिज़नेस है
  10. सिविल ठेकेदार कैसे बनते है,सिविल ठेकेदार से जुडी सभी फायदे और नुक़सान

1 thought on “[PDF] Laghu Udyog kya hai, list for 2021, Ideas, and”

Leave a Comment