चाय (Chay) क्या है What is tea

chay ka business
chay ka business

चाय (Chay) एक ऐसा पेय पदार्थ है जिसे कौन नहीं जानता और इसे  पसंद भी करने वालो की संख्या में कमी भी नहीं है इस दुनिया खास कर भारत में चाय का दिवाना लगभग हर व्यकित आपको मिल ही जायेगा जिसे चाय  पीना बहुत ही पसनद तो करता ही होगा। चाय अपने आप में अमृत के सामान है जिसे पीते ही आपके सारी थकान मिंटो में दूर हो जाती है आपका  दिन कैसे भी बीता हो किन्तु शाम को चाय की इक चुस्की आपके लगभग नब्बे प्रतिशत की थकान दूर कर ही देती है इस प्रकार आप आप कितने तनाव में हो आपको चाय की एक चुस्की आपके पुरे तनाव को अपनी एक चुस्की में ही ख़तम कर देती है आप कह सकते है यह किसी दर्द निवारक से कही ज्यादा तेज काम करती है चाय आसानी से आज के समय में लगभग सभी जगह मिल ही जाती है जो की 10 रुपये से लेकर 1000 रुपये तक की बाजार में उपलब्ध है 

चाय की खोज कैसे हुयी 

विश्व में हमे चाय चीन में मिली  ऐसा माना जाता है की चीन के सम्राट शैंन नुंग जब बीमार थे तो उनके किसी  सेवा दार ने उनके लिए एक प्याले में गर्म पानी उनके मेज पर रखा  था कहा जाता है कि चीन के तभी एक सूखी पत्ती हवा के साथ बहकर उस प्याले में गिर गयी थी, जिससे पानी का रंग बदल गया। सम्राट ने जब उस रंगीन पानी की चुस्की ली तो उन्हें उसका स्वाद भा गया। यहीं से चाय के सफर का आगाज़ हुआ। ये घटना ईसा पूर्व 2737 की है। 1610 ई. में चाय ने डच व्यापारियों का हाथ थाम यूरोप की भूमि पर कदम रखा। फिर विश्व भर में इसका परचम लहराने लगा। भारत के इतिहास के पन्नों में चाय (Chay) का जिक्र  1815 ई में हुआ हैं जब कुछ अंग्रेजी यात्रियों की नजर असम में उगने वाली चाय की झाड़ियों पर पड़ी। स्थानीय कबीले के लोग इसकी पत्तियों से बने पेय का आनंद लेते थे। वहीं 1834 ई में गवर्नर जनरल लार्ड बैंटिक ने चाय के उत्पादन की संभावनाओं को तलाशने हेतु एक समिति का गठन किया। संतुष्ट हो उन्होंने 1835 ई. में असम में चाय के बाग लगाकर भारत में चाय की संस्कृति की नींव रखी।

भारत में चाय

हमारा प्यारा भारत और इसके प्यारे देशवाही भी चाय के मामले में किसी से कम कहा है क्या क्या आप जानते है विश्व में चाय (Chay)के उत्पादन में दूसरे नंबर है और पहले नंबर पर चीन है जिसके बाद दूसरे नंबर पर हमारा प्यारा भारत है  इन सब के साथ आपको यह  जानकर हैरानी होगी की  देश में उत्पादित 100 फीसदी में से लगभग 70 फीसदी हमारे देश में ही खपत हो जाती है , है न ये बात मजेदार भारत में वैसे अनेको किस्म की चाय बनती है किन्तु कुछ चाय ऐसी है जो आपको देश के कोने कोने में प्रचलित है जैसे ग्रीन टी , येल्लो टी , ब्लैक टी , जिंजर टी , नार्मल टी, कड़क चाय, इलायची चाय, इत्यादि चाय है जिनकी देश में अधिक मांग है 

Read also : Agriculture business ideas in hindi

 

1 Trackback / Pingback

  1. Top 30 agriculture business ideas in hindi for small farmer in 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*